Khatushyam Baba temple mela live News Updates:Decoration of Khatushyam ji temple on Mela 

falgun mela in khatu,Khatu ke Baba Shyam ji,falgun mela 2018,khatu shyam live darshan online,khatu fair 2018,khatu mela 2018,Khatu mela rajastha,Khatushyam Baba temple mela live News Updates,Decoration of Khatushyam ji temple on Mela 

The temple complex has been decorated in a charming manner on the occasion of Khalusamyji’s Phalgun Lakkhi Fair 2018. The team of special craftsmen called Kolkata to decorate the temple has been decorated many temples of India including Vaishno Devi Temple, Mahakal Mandir of Ujjain, Siddhi Vinayak of Mumbai and Mahalaxmi Temple, Amarnath, Jwala of Himachal and Jwala Maa of Himachal. The workers from Vrindavan have beautified many temples of the state and the country including Mathura’s Banke Bihari Temple, Ajmer Dargah, Kaila Devi, Haridwar.

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:Khatushyam baba Janki

-रथ पर सवार श्री कृष्ण और सिंह वाहिनी मां दुर्गा की झांकी रहेगी विशेष आकर्षण का केन्द्र-खाटूश्यामजी मंदिर परिसर में शिवलिंग एवं नंदी महाराज की झांकी भी सजाई गई है।
-श्याम दरबार को सजाने के लिए विशेष तौर पर वैष्णों देवी मंदिर की सजावट करने वाले बंगाली कारीगर लगे हुए हैं।
-कारीगर गत कई दिनों से प्लाई बोर्ड की लकड़ी, थर्माकोल, रंगीन कपड़ा, विदेशी आर्टिफिसल फूल, बूटिक, गोटा व थर्माकोल एवं प्लास्टर ऑफ पेरिस से बनी अनेक देवी देवताओं की मूर्तियों से दरबार को सजा रहे हैं।

मुख्य प्रवेश द्वार सहित तीन स्थानों पर बड़े गेट लगाए जाएंगे। इनमें विद्युत चलित झांकियां दिखाई जाएगी।

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:Surajgarj Nissan Yatra 2018

खाटूश्यामजी.जन जन के आराध्यदेव बाबा श्याम का सतरंगी फाल्गुनी मेले में देशभर से आए हजारों श्याम भक्तों ने दरबार में सुगंधित फूलों से श्रृंगारित लखदातारी श्याम को शीश नवाकर मनौतियां मांगी। इधर रींगस से पदयात्राओं का दौर मेले से पहले ही चालू हो गया था। रींगस से खाटूधाम पहुंचने वाले पैदल श्रद्धालुओं के लिए जयपुर, लुधियाना, सूरत, मुंबई, हरियाणा, दिल्ली आदि राज्यों के भक्त मंडलों में निशुल्क भण्डारे एवं मसाज, तेल मालिस आदि से सेवा की जा रही है। इस मार्ग पर भंडारों का काम द्रुत गति से चल रहा है। इन भण्डारों में देश के स्वादिष्ट व्यंजनों एवं मिष्ठानों का स्वाद चखा जा सकता है। रींगस रोड पर खाटू से दो किमी दूर लुधियाना वालों का श्री श्याम चरण सेवा ट्रस्ट भक्तों की सेवा में लगा है। संस्था के कमल अग्रवाल, प्रकाश सिंघानिया व लक्ष्मी सिंघानियां ने बताया कि विगत पांच सालों से एक्युप्रेशर कैंप लगा रहे हैं। जिसमें पैदल आने वाले श्रद्धालुओं के पैर दर्द होने पर एक्युप्रेशर की मशीनों एवं तेल मालिस कर दर्द को दूर किया जा रहा है। वहीं तेल मालिस (चंपिग) भी की जाती है। इस सेवा में महिला एवं पुरुष अपनी सेवा दे रहे हैं। सेवादारों का कहना है कि इसी सेवा में हमें श्याम बाबा नजर आते हैं।

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:पदयात्रा से आया सेवा का आइडिया

श्री श्याम चरण सेवा ट्रस्ट के प्रकाश सिंघानिया एवं सीमा अग्रवाल ने बताया कि 2010 के फाल्गुनी मेले के दौरान हमने और हमारे साथियों ने रींगस से खाटूधाम तक की पदयात्रा की। इस दौरान पैरों में दर्द हुआ तो चौमूपुरोहितान गांव से आगे आकर बैठ गए। यहीं हमें सेवा करने का आइडिया आया और 2011 में खाटू से दो किमी दूर रींगस की ओर जगह लेकर यह फाल्गुनी मेले के दौरान सेवा शुरू की। आज इस सेवा में कोलकाता, इंदौर, दिल्ली, सूरत, पंजाब, जयपुर सहित देशभर के भक्त जुड़ गए है।

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:नारायण ज्योति शोध संस्थान देगा सेवा

श्याम बाबा के फाल्गुनी मेले में जयपुर के नारायण ज्योति शोध संस्थान रींगस रोड पर 15वां निशुल्क भण्डारे का आयोजन 23 से 26 करेगा। आयोजक पं.प्रहलाद शर्मा ने बताया कि रींगस से पैदल आने वाले श्रद्धालुओं के लिए भोजन, चिकित्सा एवं आवास की निशुल्क व्यवस्था की जाएगी। भण्डारे में बाबा की आलौकिक झांकी सजाकर कीर्तन व जागरण होंगे।

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:समितियां देंगी चिकित्सा सेवाएं

श्री श्याम महोत्सव सेवा समिति जयपुर की ओर से खाटूधाम की झुंझुनू धाम धर्मशाला के पास मासिक चिकित्सा एवं लैंस प्रत्यारोपण शिविर 23 से 27 फरवरी तक होता है। फाल्गुन मेले में इस समिति की ओर से वृहद स्तर पर शिविर लगाया जाएगा। समिति के अध्यक्ष ओमप्रकाश मोदी ने बताया कि इसबार मेले में आइसीयू रूम, फोर्टिज अस्पताल जयपुर के सहयोग से क्रिटिकल केयर यूनिट, जेडी अस्पताल रींगस सहित जयपुर के विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवाएं शिविर में रहेगी। पदयात्रियों के लिए 8 मसाज मशीन एवं ,गर्म पानी के शेक भी व्यवस्था भी रहेगी। इधर रींगस रोड पर स्थित श्री श्याम प्राकृतिक चिकित्सालय की ओर से निशुल्क भंडारा 23 से 26 फरवरी तक लगेगा। डॉ.हरि सिंह देवेन्दा ने बताया कि भंडारे में डॉ.गणपत चौधरी एक्युप्रेशर की निशुल्क चिकित्सा सेवाएं भी देंगे। मेले में इस बार भक्तों को घुड़सवारी करने का आनंद भी मिलेगा। नागौर के नावां शहर से आए चंद्राराम सहित मोहन, पप्पूराम, बाबू, मोती, आदि ने बताया कि उसके परिवार के लोग करीब 18 घोड़े लेकर आए हैं। यह घोड़े नृत्य, दौड़ एवं अन्य कलाबाजियों में माहिर है। मेले में आने वाले श्याम भक्तों को घुड़सवारी एवं कलाबाजियों के माध्यम से उनका मनोरंजन करेंगे। इसके जरिए हमें रोजगार मिलेगा।
आस्था: कोलकाता से पदयात्रा कर श्याम दरबार पहुंचा भक्त

कहते हैं अगर मन में ठान लो तो बड़ी मुश्किल भी आसान हो जाती है। इसी जज्बे और श्याम बाबा के प्रति प्रेम की अनूठी मिशाल कायम की है कोलकाता के अमोद बजाज ने। अमोद 29 दिसंबर 2017 को घूसड़ी धाम के श्याम मंदिर से निशान की पूजा अर्चश्री कर रवाना हुआ। श्याम परिवार सुखी संसार के सदस्यों ने श्याम दुपट्टा ओढ़ाकर स्वागत किया। इसके बाद दुर्गापुरा, रानीगंज, धनबाग, बनारस, इलाहबाद, कानपुर, आगरा होते हुए राजस्थान में प्रवेश किया। जहां भरतपुर, मुंडरू, श्रीमाधोपुर होते हुए शनिवार को रींगस पहुंचा। अमोद ने बताया कि 1526 किमी की इस यात्रा में बाबा श्याम की कृपा से कोई कठिनाई नहीं आई। उन्होंने बताया कि रविवार को श्री श्याम सुखी संसार कोलकाता के भक्तों के साथ रींगस से खाटूधाम की पदयात्रा कर बाबा श्याम को निशान अर्पित कर देश में खुशहाली की कामना करूंगा।

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:नाचते गाते जा रहे हैं भक्तरींगस.

नाचते गाते जा रहे हैं भक्तरींगस. बाबा श्याम के फाल्गुनी लक्खी मेले का शनिवार को शुभारम्भ हुआ। 27 फरवरी तक चलने वाले लक्खी मेले के पहले दिन शनिवार को रींगस से खाटूश्यामजी के बीच श्याम भक्तों की कतारें दिखी। कस्बे के प्राचीन श्याम मंदिर व खाटूमोड़ पर दिनभर श्याम भक्त बाबा के भजनों पर नाचते-गाते नजर आए। रींगस से खाटूश्यामजी पैदल जाने वाले श्याम भक्तों की सेवा के लिए पूरे मेला मार्ग में भण्डारे भी लगने शुरू हो गई है। भण्डारों में व्यवस्थाओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इन भण्डारों में हजारों श्याम प्रेमी बाबा के भक्तों की सेवा करते है तथा पुण्य प्राप्त करते है। इस बार पुलिस प्रशासन के द्वारा भी रात्रि में पदयात्रा करने वाले श्याम भक्तों के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। थानाधिकारी सुनिल कुमार गुप्ता ने बताया कि सभी भक्तों को कमर पर लगाने के लिए रिफलेक्टर वाला बेल्ट दिया जाएगा, ताकी अंधेरे में होने वाले हादसों को रोका जा सके।

 

Khatushyamji falguni mela 2018 live news updates:Surajgarj Nissan Yatra 2018

 

Khatu Mela 2018 : History of Surajgarh nishan in Khatu Shyamji Temple :खाटूश्यामजी मंदिर के शिखर पर 369 साल पहले ऐसे शुरू हुआ सूरजगढ़ का निशान चढ़ना

Khatushyamji Mela 2018 live news updates:
Baba Shyam on the majesty. Tilting the sheesh in Khatudham in mind and saffron mark in the hands (flag). Khatushyamji’s Phalgun Lakkhi Mela is being seen in 2018 to see such scenes. In the 12-day Khatu Mela that started on 17 February 2018, devotees are moving towards thousands of hands with thousands of marks from the four moons in the Khatu court.

खाटूश्यामजी.मुख पर बाबा श्याम के जयकारे। मन में खाटूधाम में शीश झुकाने और हाथों में केसरिया निशान (ध्वज)। खाटूश्यामजी के फाल्गुन लक्खी मेल 2018 में चहुंओर ऐसे नजारे देखने को मिल रहे हैं। 17 फरवरी 2018 से शुरू हुए 12 दिवसीय खाटू मेले में चहुंओर से लाखों हाथों में श्रद्धालु हजारों निशान लेकर खाटू दरबार की ओर बढ़ रहे हैं।

यूं तो श्याम भक्तों द्वारा लाए जा रहे सभी निशान बेहद खास हैं, मगर खाटू मेला 2018 के मौके पर हम आपको बता रहे हैं एक निशान के बारे में जो सबसे अहम है। वो इसलिए कि सारे निशानों में से सिर्फ ये ही निशान खाटूश्यामजी के मंदिर के शिखर पर सालभर लहराता है।

Khatushyamji mela 2018 live news updates:खाटू के शिखर पर इसलिए चढ़ता है सूरजगढ़ वालों का निशान

-खाटूश्यामजी के शिखर पर वर्ष भर लहराने वाले झुंझुनू जिले के सूरजगढ़ शहर के ध्वज और इसकी यात्रा का इतिहास बड़ा निराला है।

-पिछले 369 साल से यह निशान सूरजगढ़ से 160 किलोमीटर की पदयात्रा कर चार दिनों में खाटूधाम पहुंचता है।

-सूरजगढ़ से खाटूश्यामजी विशेष निशान लेकर आस-पास के गांवों के करीब आठ से दस हजार पदयात्री खाटू पहुंचते हैं।

-सूरजगढ़ वालों की निशान पदयात्रा में करीब 50 से भी अधिक महिलाएं अपने सिर पर सिगड़ी रख कर चलती हैं।

-सिगड़ी में बाबा श्याम की जोत जलती रहती है, जो आंधी-तूफान या बारिश आने पर भी निरंतर जलती रहती है।

-पदयात्रा के साथ कांसी की थाली से बनी एक झालर एवं ढप की आवाज पर मंदिर के सेवक हाथों में मोरछड़ी लेकर नाचते हुए चलते हंै।

-ऐसा विश्वास है कि जो महिला अपने सिर पर सिगड़ी रखकर यात्रा करती है उनकी प्रत्येक मनोकामना श्याम बाबा पूर्ण करता है।

बारस को चढ़ेगा सूरजगढ़ का निशान,सूरजगढ़ के श्याम मंदिर में प्रधान सेवक हजारीलाल इंदौरिया समेत अनेक मंदिर सेवकों ने खाटू मेले 2018 के तीसरे दिन रविवार को श्याम ध्वज की विधिवत रूप से पूजा अर्चना की। इंदोरिया ने बताया कि 11 महाआरती के बाद छट को ध्वज पदयात्रा खाटू के लिए रवाना होगी। शुक्ल पक्ष द्वादशी (बारस) को यह पावन ध्वज सुबह सवा 11 बजे बाबा श्याम के मंदिर में चढ़ाया जाता है जो वर्ष भर मंदिर के शिखर पर लहराता है।

Khatushyamji mela 2018 live news updates:सूरजगढ़ के निशान की महिमा व इतिहास

दंतकथा है कि सीकर जिले के खण्डेला कस्बे के एक व्यक्ति की बाबा श्याम में गहरी आस्था था। वह हर साल मेले में खण्डेला से खाटूधाम निशान लेकर जाया करता था। उस श्याम भक्त ने एक बार अन्य श्याम भक्तों को बताया कि बाबा श्याम उसके सपन में आए और खण्डेला की बजाय सूरजगढ़ से आकर निशान चढ़ाने की बात कही। इसके बाद से सूरजगढ़ के निशान की परम्परा शुरू हो गई। कई श्याम भक्तों ने इसे बढ़ाया, जिसमें श्याम भक्त मंगलाराम यादव, सांवलराम और सूरजगढ़ के अमरचंद भोजराजका का परिवार की भूमिका अहम है।

Khatushyamji mela 2018 live news updates:Khatushyamji temple live darshan